कंच-मंच, बाल-गोपाल जी रौना लाख सौ बरीश